जन गण मन : हिन्दी अर्थ सहित

जन गण मन भारत का राष्ट्रीय गीत है गुरुदेव रवींद्र नाथ ठाकुर भारत के बँगला साहित्य के शिरोमणि कवि थे.

उनकी कविता में प्रकृति के सौंदर्य और कोमलतम मानवीय भावनाओं का उत्कृष्ट चित्रण है.
“जन
 गण मन” उनकी रचित एक विशिष्ट कविता है जिसके प्रथम छंद को हमारे राष्ट्रीय गीत होने का गौरव प्राप्त है.
गणतंत्र दिवस के शुभ अवसर पर, काव्यालय की ओर से, आप सबको यह कविता अपने मूल बंगला रूप में प्रस्तुत है. 



“जन गण मन”



जनगणमन आधिनायक जय हे भारतभाग्यविधाता!

जन गण मन के उस अधिनायक की जय हो, जो भारत के भाग्यविधाता हैं!



पंजाब सिन्धु गुजरात मराठा द्राविड़ उत्कल बंग


विन्ध्य हिमाचल यमुना गंगा उच्छलजलधितरंग

उनका नाम सुनते ही पंजाब सिन्ध गुजरात और मराठा, द्राविड़ उत्कल व बंगाल

एवं विन्ध्या हिमाचल व यमुना और गंगा पर बसे लोगों के हृदयों में मचलती मनमोहक तरंगें भर उठती हैं


तव शुभ नामे जागे, तव शुभ आशीष मागें

गाहे तव जयगाथा

सब तेरे पवित्र नाम पर जाग उठते हैं, सब तेरे पवित्र आशीर्वाद पाने की अभिलाषा रखते हैं

और सब तेरे ही जयगाथाओं का गान करते हैं


जनगणमंगलदायक जय हे भारतभाग्यविधाता!

जय हे, जय हे, जय हे, जय जय जय जय हे।।

जनगण के मंगल दायक की जय हो, हे भारत के भाग्यविधाता

विजय हो विजय हो विजय हो, तेरी सदा सर्वदा विजय हो


 ये आर्टिकल Pawan Jangu (पवन जाँगू) ने Guest Post की है!!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here